WWW.AyurvedicDelhi.Webs.COM

Ayurvedic-Delhi

Click here to edit subtitle

Blog

राधा श्री राधा रटूं, निसि- निसि आठों याम। जा उर श्री राधा बसै, सोइ हमारो धाम

 

जब-जब इस धराधाम पर प्रभु अवतरित हुए हैं उनके साथ साथ उनकी आह्लादिनी शक्ति भी उनके साथ ही रही हैं।

view:  full / summary

RADHEY SHYAAM . . .

Posted on June 1, 2012 at 8:35 PM

आज इस अनुपम छवि को देख मन में यह बहुत पुराना सुना हुआ यह भाव सहसा ही उद्धृत हुआ है,

जो की...

Read Full Post »

THE HEART OF GOPIS . . .

Posted on June 1, 2012 at 9:25 AM

एक कथा है. कोई गोपांगना अपने सिर पर दही भरी मटकी रखे हुए संध्या-वेला तक नन्द-भवन के ही चा...

Read Full Post »

THE HOLY CHILD . . .

Posted on June 1, 2012 at 9:15 AM

जय श्रीराधे !!

 

बहुत समय पहले की

बात है वृन्दावन में एक महात्मा जी का निवास था जो युग&#...

Read Full Post »

THE TEMPLE

Posted on June 1, 2012 at 9:10 AM

मैंने सुना है : कहीं मंदिर बन रहा था ! तीन श्रमिक धुप में बैठे पत्थर तोड़ रहे थे ! एक राहगी...

Read Full Post »

SRI SRI RAVI SHANKAR

Posted on June 1, 2012 at 9:05 AM

श्री श्री रवि शंकर : पहले भक्त नहीं कहते, पहले भगवान कहते हैं 'तुम मुझे बहुत प्रिय हो|'

हम...

Read Full Post »

OUR OWNER . . .

Posted on June 1, 2012 at 8:50 AM

स्वामी शब्द प्यारा है; कुछ बुरा नहीं है ! लेकिन इसमें एक खतरा है १ खतरा तो सभी शब्दों में...

Read Full Post »

SHREE RADHEY . . .

Posted on June 1, 2012 at 8:45 AM

राधा श्री राधा रटूं, निसि- निसि आठों याम। जा उर श्री राधा बसै, सोइ हमारो धाम

 

जब-जब इस ध...

Read Full Post »

Welcome to the website . . .

Posted on May 28, 2012 at 9:15 AM

Welcome to the website . . . :)


Rss_feed